कद्दू की फसल

       आपके यहां इसमें कद्दू खेती हो रही है या नहीं उस हिसाब से आप कद्दू की खेती साल भर कर सकते हैं ,किसान भाइयों खेत की तैयारी के हम बात करते हैं ,किसान भाइयों कद्दू एक पुतली जड़ वाली फसल होती यानी इसको जरूर होती है ,यहां तक गहरी नहीं जाती है ,उतनी से तात्पर्य होता है ,कि जो ऊपर ही रह रही हो किसान भाइयों इसलिए जब फ्रिल वाली फसल है !

 

 

         हमारी इसके लिए काफी ज्यादा गहरी जुताई करने के लिए कोई जरूरत नहीं होती है ,दो फिर अपनी तारीफ कल्टीवेटर से कर लीजिए जो पुरानी है -प्रोफेसर हैं- जो पुआल है – या कुछ भी है गेहूं की जड़ें हैं ,उनको निकाल दीजिए और उसमें रफ पुराण जब फसल के अवशेष है वह सब निकाल लीजिए ताकि उसमें के ना लगे हैं ,उसके बाद किसान भाइयों इसमें हमें शौक मेंटर गोबर की खाद डाल लेनी है इससे खून टन गोबर की खाद डाल रहे !

             किसान भाइयों यह हम 11 में डाल रहे हैं ,ध्यान रखें वीडियो में सारी बताई गई ! जानकारी एक एकड़ के आधार पर है ,किसान भाइयों व्यतीत जुदाई करें ! उसके बाद की संख्या इसको एक रोटावेटर सेक्शुअली करके खेत को समतल बना लीजिए किसान भाइयों फिर उसमें अगर आप दो विधि से बुवाई कर सकते हैं ,पहला आप कैरियर बना सकते हैं ,अगर पानी निकलने की अच्छी व्यवस्था जॉब या बना लीजिए और लेकिन सबसे अच्छा जो तरीका है ,वह एमएलए बना लीजिए नालियों में बुवाई कीजिए और मेल बना लीजिए मेरे पर हमारा फल जो है ,वह आएगा बेड इसको बोलते हैं ,अब भी बना सकते हैं ,किसान भाइयों अब हम बात करते हैं ,कि उन्नत किस्में कौन सी है ,किसान भाइयों कर दूंगी अब खेती बरसात के लिए कर रही हूं !मई-जून में बुवाई कर रहे ! हो ,तो आप ध्यान रखें परंपरागत बीजों का चुनाव ना करें आप आप हाइब्रिड बीजों का चुनाव करें !

         आज की इस वीडियो में मैं आपको बताने वाला हूं !हाइब्रिड तीन किस्में की संख्या सबसे पहले नंबर पर आती है ,कलेक्ट कंपनी की इंद्रजीत कर दी किसान हुई या जो है ,कि इसमें ज्यादा उत्पादन के जानी जाती है ,और इसके लिए किसान यह पहले चौड़ाई है ,यह 8590 दिन में शुरू हो जाती है ,और फल का वजन जो किसान भाइयों यह इसका 3 से 4 किलो तक इस फल का वजन होता है ,और जिससे जो कि काफी ज्यादा अच्छा उत्पादन देता है ,किसान में दूसरे नंबर पर मारी जाती है ,हिंदू हाइब्रिड कर दू की संख्या हिंदी एप्स कंपनीज बनाती है !

           किसानों या जो कद्दू है ,यह बाहर खुले खेत में लगाने के लिए काफी अच्छी किस्म होती है ,और इसका जो किसान भूत पौधे यह भी काफी ज्यादा होता है ,इसका जो अ है दिलाई है ,यह 85 से 90 दिन में इसका भी शुरू हो जाता है ,कि हर व्यक्ति के दिन नंबर पर आती है मालिकों की माहिती इन इस सम्मान को कंपनी में आती है ,इसको माहिती नाम से भी जाता किसान भाइयों इसका जो कब्ज होता है ,यह भी 303 आज तक इसका वजन होता है ,अगर हम बात करें कुछ प्रॉब्लम कितने दिन में शुरू होता है, इसको उत्पादक किसान भाइयों 8085 दिन में शुरू हो जाता है ,और इसका जो पकने पर रंग होता है ,वह और एंजेलो होता है यानी, संतरे रंग से लेकर के पीले रंग का होता है किसान भाइयों अगर कच्चा कर दो है ,दिया काफी हार्ड कलर का होता है !

        उस पर सफेद कलर की धारियां होती हैं ,और यह भी काफी ज्यादा बहुत अच्छा उत्पादन देने के लिए किसानों जाना जाता है ,अगर हम बात करें एक जादू खेती के लिए तो आपको यह अगर कर दी खेती कर रहे हैं ,तो अगर आप हाइब्रिड बीजों को रिमूव कर रहे हैं ,तो आपको सात से आठ सौ ग्राम बिक जरूरत पड़ेगी लेकिन अगर आप परंपरागत बीच में रुक कर रहे हैं ,तो आपको एक किलो बीच की जरूरत पड़ेगी अगर आपका बीच देसी है या पुराना है ,तो उसको आप गौ मूत्र के साथ कोशिश कर लीजिए यह हो गया जैविक तरीके लेकिन अगर आप जैविक खेती नहीं करते हैं ,इसको आप का रिमाइंडर ही बीच टीम के साथ भी शोधित कर सकते हैं !किसान भी अब हम बात करते हैं ,इसमें खाद के डालेंगे हम भाइयों आंख जीता इससे पहले हम उनमें शोपिसेस गोबर की खाद डाल लेनी है ,अगर आपके पास गोबर की खाद की कमी हैं !

        तो आपको वर्मी कंपोस्ट डाल सकते हैं ,और उसके साथ किसान भाइयों आपको नील की खड़ी डालनी एक कुंटल आपको नीम की खली भी डाल देंगे ! किसान भाइयों और अब बात करते हैं ,रासायनिक खाद के साथ और रासायनिक खाद के रूप में आपको यह कहकर में 50 किलो डेमोनिम फास्ट यानी बीजेपी 50 किलो पोटाश कोटा जो लेंगे हम यह मोती पुट्टास्वामी डाटा पोटा और 25 किलो यूरिया 10 किलो जिंक सल्फेट डाल देना चाहिए किसान भैया कई रिसर्च में पाया गया है ,कि भारत के अंदर सत्तर से अस्सी परसेंट ऐसे थे जिनमें जिम और सल्फर की कमी होती है और जिंक और सफर के आगे चलकर पौधे पर बहुत सारा करो कि लग जाते हैं ,,जिनको और सल्फर की कमी से तो उसको बचने के लिए हमें एक एकड़ में 10 किलो जिंक आसन फिर डाल देना चाहिए किसान भाइयों अब बात करते हैं कि बुवाई का सही तरीका क्या होता है !

                 किसान भाइयों कब हुआ यह में एक निश्चित दूरी पर करनी चाहिए ताकि जो पौधा है वह अच्छे से विकास कर सके और हम उससे कठोर पदार्थ ले सकेंगे इसमें किसान भाइयों बीच से बीच की दूरी हम सेंटीमीटर ही रखेंगे मैं ऑनलाइन से लाइन की दूरी हम 150 से स्वास्थ्य सेंटीमीटर की रखेंगे या नहीं देने से पहले दो मीटर आप लाइन से लाइन की दूरी रखिए और बीच से बीच की दूरी किसान भाइयों आपको साथ सेंटीमीटर की किसान भाइयों रखनी चाहिए और अब हम बात करते हैं ,कि हमें सिंचाई कैसे करनी चाहिए किसान भाइयों कद्दू तय सतावर की फसल है ,और बता वर्ग की फसलों में खाद और पानी की सबसे ज्यादा जरूरत होती है !

              क्योंकि इनका विकार जो है वो काफी तेजी से हो रहा होता है, तो जब हम मई के महीने में कश्मीर की बुआई करते हैं ,जैसे हमारे कद्दू जमा हो दो पत्तियों का हो जाए उसमें पहली सिंचाई कर देना चाहिए बाकी गर्मी में जब तक बरसात ना है तब तक आप उसे 8 से 10 दिन पर एक हल्की सिंचाई देखते रहिए ध्यान रखें पानी का भराव ना हो और पौधा जो है उसमें अपने भी ना पाए इसके लिए आप एक चीज कर सकते हैं ,आप देखिए कि जो आपको जो खेत है ,इसकी जो मिट्टी है उसमें दरारे बननी शुरू हो जाए तो आप समझ लीजिए पौधे को सिंचाई की जरूरत है ,इस हिसाब से फ्राई करते जाएं किसान भाइयों अब हम बात करते हैं ,कद्दू के पौधों की देखभाल कैसे करें ! कि हम भाइयों आज हम जो कद्दू है पहले सिलाई वृक्ष उस समय हमारे पौधे को तीन चीजों की सबसे ज्यादा जरूरत होती है ,नाइट्रोजन फास्फोरस और पोटेशियम

              जब हम तीन चीजों को देंगे तो हमारा जो पौधा और काफी तेजी से ग्रोथ करेगा काफी तेजी से विकास कर ये किसान में इसके लिए हम पहली सिंचाई करें उससे 8 से 10 दिन बाद यह जो हमारा जो पौधा है ,और 15 से 20 दिन की अवस्थाओं के साथ भाइयों उसमें उस समय हुए 21 किलो जयंती के 19 19 19 जिसमें कि नाइट्रोजन फास्फोरस और पोटेशियम कि मैं बराबर मात्रा में होता है ,क्यों लेना है साथिया में दो से ढाई सौ ग्राम सूक्ष्म पोषक तत्वों लेना है !

         जिसको कि मैक्सिमम 21 बोला जाता है ,इन दोनों को दोपहर में पानी मिला करके हमें अपनी फसल पर स्प्रेड कर देना चाहिए । जिससे कि हमारी फल है बहुत अच्छी तरीके से विकास करेगी !

धन्यवाद किसान भइयो

Kheti kare Share kare

khetikare

Thank You

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *